What is E-commerce Meaning in Hindi ? E-commerce क्या है ? – Internet Duniya

What is E-commerce Meaning in Hindi ? E-commerce क्या है ? - Internet Duniya

आज की दुनिया इन्टरनेट की दुनिया है , जहा सब कुछ डिजिटल होते जा रहा है | आज के समय में हर कोई online shoping के बारे में सुने होंगे | काफी लोग आजकल online shoping ही करते है | ऐसे में आपने भी E-commerce के बारे में जरुर सुने होंगे | दोस्तों What is E-commerce in Hindi ? (ई-कॉमर्स क्या है ?) (ई-कॉमर्स का क्या मतलब होता है ?) E-commerce Meaning in Hindi के बारे आपको पूरा details में बतायेंगे |

इसे भी जरुर पढ़े – Kali Linux क्या है ?

What is E-commerce in Hindi ?

E-commerce का पूरा नाम इलेक्काट्रॉनिक कॉमर्स होता है, मतलब आसान शब्दों में कहा जाए तो व्यापार होता है | जिसे Internet Commerce भी कहते है | किसी तरीके के प्रोडक्ट या service को ऑनलाइन खरीदना और बेचना, online पैसे transfer करना, इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से डाटा आदान-प्रदान करने की प्रक्रिया है | इंटरनेट के माध्यम से अपने प्रोडक्ट सर्विसेज बेचना लोगों का खरीदना इस तरीके के बिजनेस को हम e-commerce कहते हैं |

Advertisement

दोस्तों E-commerce Boom पर है, धीरे-धीरे e-commerce का दायरा बढ़ता जा रहा है और पिछले चार-पांच सालों में तो e-commerce बहुत ही ज्यादा तेजी से फैला है | आज के लिए Flipkart, Amazon इतनी पॉपुलर वेबसाइट हो गई है इंडिया में के हम घर बैठे जो भी समान होता है, वो हम आसानी से घर बैठे मोबाइल से आर्डर कर सकते है और एक-दो दिन में डिलीवरी भी हो जाती है और Same Day डिलीवरी भी होती है, तो इंटरनेट आगे जाकर और ज्यादा बढ़ने वाला है |

लेकिन अभी भी टियर 3 , टियर 4 Cities काफी शहर ऐसे हैं जहां पर अभी भी लोगों के बारे में लोगों को इंटरनेट e-commerce के बारे में इतना ज्यादा नहीं मालूम है | उनके लिए अभी भी जो घर के बराबर में बनिए की दुकान है वहीं से सारा सामान आता है | इसका पूरे तरीके से यूज नहीं कर रहे है, लेकिन आने वाले टाइम में धीरे-धीरे इंटरनेट की Reach और बढ़ेगी |

इसे भी जरुर पढ़े – Mutual Fund क्या है ?

Advertisement

E-commerce हमारे लिए क्यों जरुरी है ?

दोस्तों मै बात करूं क्यों, तो बहुत ही आसान जवाब है आप जानते हैं कि अगर कोई एक फिजिकल(Physical) दुकान होगी तो उसकी Reach(पहुँच) कितनी होगी ? जिस एरिया में वह दुकान है सिर्फ उसी एरिया के आसपास उसकी Reach(पहुँच) होगी | सिर्फ वही के लोग उस दुकान का सामान खरीदने आएंगे कोई कहीं दूर से तो आएगा नहीं कोई बहुत ज्यादा पॉपुलर दुकान है तो ज्यादा से ज्यादा उस शहर के लोग उस दुकान में बार-बार आ जाएंगे |लेकिन जब कोई दुकान इंटरनेट पर आ जाती है तो उसकी न्यूज़ पूरी दुनिया हो जाती है | पूरी दुनिया में कहीं से भी इंटरनेट के जरिए आप उस दुकान का माल खरीद सकते हैं |

यह तो है कि e-commerce बिजनेस को आसान बना देता है और उसकी Reach, उसकी आउटरीच(Out Reach) कितनी बड़ी कर देता है और इसके अलावा भी कई तरीके के फायदे हैं | इसके अलावा भी एक बिजनेस के लिए इसको Mainten करना भी बहुत आसान है | अगर हम Physical Store की बात करें तो उसमें तो आपको प्रॉपर्टी चाहिए होगी | आप उसको या तो खरीद लेंगे या फिर रेंट(Rent) पर लेंगे |

जिसका रेट भी काफी ज्यादा होगा, लेकिन e-commerce में आपको इन सब चीजो जरुरत नही पड़ती है | e-commerce में आप सब कुछ online digitally देख पायेंगे की आपका प्रोडक्ट कितना sell हुआ और कितना प्रॉफिट आदि सारी चीजे आप online e-commerce में देख सकते है |

Advertisement

इसे भी जरुर पढ़े – SDD क्या है ? SDD VS HDD 

E-commerce के प्रकार- Types Of E-commerce in Hindi 

ecommerce कई प्रकार हैं हम आपको मुख्यतः 4 प्रकार के ecommerce के बारे में बतायेंगे |

  1. B2B E-commerce
  2. B2C E-commerce
  3. C2B E-commerce
  4. C2C E-commerce
  5. B2G E-commerce
  6. C2G E-commerce

1- Business To Business E-commerce ( B2B )

जब online business दो से अधिक business कंपनियों, संस्थानों आदि के बीच किया जाता है तो यह Business to Business Model (B2B) कहलाता है | जैसे अगर कोई कंपनी खुद कोई प्रोडक्ट नही बनाती है और किसी दूसरी कंपनी से खरीद कर बेचती है तो वो B2B के अंतर्गत आता है |

Advertisement

2- Business To Consumer ( B2C )

इसमें लेनदेन एक business और consumer के बीच होता है | इस business में एक business इन्टरनेट पर प्रोडक्ट या सर्विसेज को सीधे consumer को बेचता है | सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला ecommerce यही है | जैसे Flipkart, Amazon आदि जैसी कंपनी से ग्राहक सीधे कोई भी सामान खरीदता है |

3- Consumer To Business ( C2B )

यह लेनदेन B2C का उल्टा है | इसमें लेनदेन Consumer और Business में बीच होता है | जैसे एक Consumer अपना सामान अथवा सेवाए सीधे एक business को बेचता है तो यह ecommerce modal C2B कहलाता है | जैसे एक YouTuber, फोटोग्राफर , Comedian आदि अपने दर्शको के हिसाब से business से उत्पाद प्रचार फीस ले सकते है और अपनी कुछ सेवाए रॉयल्टी के आधार पर भी उपलब्ध कर सकते है |

इसे भी जरुर पढ़े – IP Address क्या है ?

Advertisement

या जैसे एक Consumer वेबसाइट बनवाने के लिए online recuirment देता है और कोई कंपनी इसके लिए सही कीमत पर वेबसाइट बनाकर देने का ऑफर करती है |

4- Consumer To Consumer ( C2C )

यह model शुरुआत का business model है | ये ecommerce business model एक ग्राहक से दुसरे ग्राहक से online transaction करता है | जब Consumer अपने product को किसी अन्य ग्राहक को इन्टरनेट पर बेचता है, तब इस transaction को Consumer To Consumer (C2C) कहा जाता है | इसमें consumer अपनी पुराने सामान जैसे कार, बाइक आदि जैसे अपनी प्रॉपर्टी को अन्य consumer को सीधे इन्टरनेट के माध्यम से बेचता है | इसमें ज्यादातर बेचा गया सामान second hand या पुराना होता है |

ये लेनदेन थर्ड पार्टी के जरिये ही किया जाता है, जो online प्लेटफार्म प्रदान करते है | इसके लिए Olx, Quikr जैसी कई कंपनिया service के consumer को चार्ज करती है या फिर फ्री में service देती है |

Advertisement

इसे भी जरुर पढ़े – Share Market क्या है ?

ई-कॉमर्स के फायदे – ( Advantages Of E-Commerce in Hindi )

E-commerce से काफी सारे फायदे और लाभ है, जो कि निम्नलिखित है –

  1. E-commerce से हम shoping national और international दोनों कर सकते है |
  2. इससे हम घर बैठे कोई भी सामान online खरीद सकते है जिसे हमे बहार जाकर सामान खरीदने की जरुरत नही पड़ती है |
  3. इसमें आप प्रोडक्ट और कीमत की तुलना कर सकते है, जैसे खरीदारी करते टाइम ग्राहक उस सामान की कीमत को कई और वेबसाइट पर से तुलना कर सकता है | जिसे बेहतरीन प्रोडक्ट पर उसे अच्छी deals मिल सके |
  4. इसके साथ ही ग्राहक को डिस्काउंट और कूपन जैसे अन्य लाभ भी मिल जाते है |
  5. E-commerce में लागत कम होती है और मुनाफा काफी ज्यादा होता है |
  6. E-commerce का सबसे बड़ा लाभ है कि ग्राहक को 24×7 खरीदारी कर सकता है | वेबसाइट हमेशा चालू रहता है इसमें दुकानों को तरह working hours नही रहता है |
  7. E-commerce का सबसे बड़ा फायदा ये भी है की हम कोई सामान खरीदते है तो उसके payment करने के लिए कई option मिल जाते है | जैसे – UPI, Internet Banking, Debit Card, Credit Card आदि |
  8. E-commerce में return policy का भी option मिलता है | इसका मतलब ये हुआ की अगर आपको सामान पसंद नही आया तो उसे आप वापस कर सकते है |
  9. E-commerce में आपको दुकानों की तरह लाइन में लगने की जरुरत नही पड़ती है क्युकी आप सारा सामान एक जगह आर्डर कर सकते है |
  10. Online सामान खरीदना बहोत ही आसान है | लोगो ने खुद माना है की उन्हें बाज़ार या दूकान से सामान खरीदने से अच्छा online सामान खरीदना अच्छा लगता है |

इसे भी जरुर पढ़े – Computer Virus क्या है ?

Advertisement

ई-कॉमर्स के नुकसान – ( Disadvantages Of E-Commerce in Hindi )

ई-कॉमर्स के फायदे के साथ-2 कुछ नुकसान भी है, जो कि निम्नलिखित है –

  1. E-commerce में कई बार online shoping करने पर कई सामान डिफेक्टिव यानी की खाराब आ जाते है |
  2. E-commerce में आपके card details या फिर bank details चोरी होने का भी खतरा हो सकता है और आपके साथ कई सारे fraud भी हो सकते है |
  3. E-commerce के high speed इन्टरनेट की जरुरत पड़ती है | क्युकी कभी -2 low speed के कारण वेबसाइट काम नही करती है |
  4. E-commerce का business शुरू करना थोड़ा ज्यादा लागत लग सकता है | जैसे hardware और सॉफ्टवेयर को setup करने में और Domain और Hosting लेने में और भी maintenance का भी खर्चा लग जाता है |
  5. अगर वेबसाइट की hosting अच्छी नही होती है और ज्यादा ट्रैफिक आने लगे तो वेबसाइट crash भी सकती है, जिसे पूरा काम रुक सकता है क्युकी E-commerce में सारा काम वेबसाइट के जरिये ही होता है | इससे business में काफी नुक्सान हो सकता है |

इसे भी जरुर पढ़े – CPU क्या है ?

Conclusion:- 

दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको ये पोस्ट काफी अच्छा लगा होगा और अच्छे से समझ में भी आ गया होगा कि ई-कॉमर्स क्या है ? ( What is E-commerce in Hindi ? ) और E-commerce Meaning in Hindi अगर आपको समझने में कोई दिक्कत हुयी हो तो मुझे निचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है और इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे |

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here