Computer Kya Hai in Hindi ? What is Computer in Hindi ? – Internet Duniya

Computer Kya Hai in Hindi _ What is Computer in Hindi - Internet Duniya

नमस्कार दोस्तों कैसे हो आप सभी ? दोस्तों मुझे उम्मीद है कि आप सभी ठीक ही होंगे । कंप्यूटर के बारे में दोस्तों आप लोगों ने हमेशा कुछ न कुछ जानने का प्रयास किया है, लेकिन अभी भी बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्हें कंप्यूटर के बारे में अच्छी नॉलेज नहीं है । तो चलिए दोस्तों हम आपको बताते हैं कि, Computer Kya Hai (कंप्यूटर क्या है ?) Computer in Hindi- What is Computer in Hindi ? 

इसके अलावा हम आपको और भी कई सारी बाते बतायेंगे जैसे – generation of computer in hindi, full form of computer तो इस लेख(Post) को अच्छे से पढियेगा और जो न समझ में जाए आप मुझे निचे कमेंट बॉक्स में जरुर पूछे |

इसे भी जरुर पढ़े – CPU क्या होता है ? 

Computer क्या है ? Computer in Hindi ?

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन (Electronic Machine) है, जिसको डाटा प्रोसेस (Proccess) करने के लिए और डाटा को स्टोर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है । आसान शब्दों में कहा जाए तो कंप्यूटर एक मशीन है जो कुछ निर्देशों के अनुसार कार्य को पूरा करता है ।

Advertisement

कंप्यूटर एक ऐसा मशीन है जिसे किसी भी कार्य को आसानऔर जल्दी करने के लिए बनाया गया है । Computer शब्द  लैटिन (Latin) के शब्द Computare से लिया गया है | जिसका मतलब होता है कैलकुलेशन (Calculation) करना या गणना करना । कंप्यूटर का मुख्यतः तीन काम है पहला डेटा को लेना जिसको हम Input कहते हैं। दूसरा काम उस डाटा को Processing करना और फिर तीसरा काम उस Process किए गये डाटा को दिखाना होता है, जिसे हम Output कहते हैं ।

इसे भी जरुर पढ़े – 121+ Computer Shortcut Key lists A to Z

Full Form Of Computer in Hindi (कंप्यूटर का फुल फॉर्म)-

  • C- Commonly
  • O- Operating
  • M- Machine
  • P- Particularly
  • U- Used for
  • T- Technical/Trade
  • E- Educational
  • R- Research

Generation Of Computer in Hindi-

दोस्तों आज के जमाने में जो हम कंप्यूटर यूज़ करते हैं यह कंप्यूटर वैज्ञानिकों के बहुत ही कठिन मेहनत का परिणाम है कंप्यूटर की जनरेशन के हिसाब से कंप्यूटर जेनरेशन मुख्य तौर पर पांच हिस्सों में बाटा गया है | कंप्यूटर जनरेशन का तात्पर्य है कंप्यूटर की पीढ़ियां अर्थात जैसे-जैसे कंप्यूटर में डेवलपमेंट आती गई वैसे वैसे कंप्यूटर को अलग-अलग पीढ़ियों में विभाजित किया गया जिससे इन्हें पढ़ने में आसानी हो

इसे भी जरुर पढ़े – Computer में RAM क्या होता है ?

Advertisement

कंप्यूटर की पहली पीढ़ी 1940 से 1954 ( Vacuum tubes )-

सबसे पहले जनरेशन के कंप्यूटर वेक्यूम ट्यूब (Vaccum tubes) और circuitry और Magnetic Drum को मेमोरी के लिए इस्तेमाल करते थे | यह कंप्यूटर साइज में काफी बड़े होते थे, और इनको चलाने में काफी शक्ति का इस्तेमाल होता था । ज्यादा बड़ा होने के साथ-साथ इसमें हिट(Heat) की हुई बहुत समस्या होती थी । यह कई बार मालफंक्शन(Malfunction) भी होता था | इनमें मशीन लैंग्वेज का इस्तेमाल होता था उदाहरण के तौर पर यूनीवैक (UNIVAC) और ENIAC कंप्यूटर।

इसे भी जरुर पढ़े – Computer Virus क्या होता है ?

कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी 1956 से 1963 ( Transistors )-

सेकंड जनरेशन के कंप्यूटर में वैक्यूम ट्यूब्स के जगह ट्रांसिस्टर्स ने ले ली, ट्रांसिस्टर बहुत ही कम जगह लेते थे, फास्टर थे सस्ते थे और ज्यादा एनर्जी एफिशिएंट(Efficient) थे | यह पहले जनरेशन के कंप्यूटर की तुलना में कम heat जेनरेट(generate) करते थे | लेकिन फिर भी इनमें heat की समस्या अभी भी थी | इनमें हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे कोबोल(COBOL) और फोर्टट्रेन(FORTRAN) को इस्तेमाल किया गया था ।

इसे भी जरुर पढ़े – Laptop VS Computer कौन सा अच्छा है और क्यों ?

Advertisement

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी 1964 से 1971 ( Integrated Circuits )- 

थर्ड जनरेशन के कंप्यूटर में पहली बार इंटीग्रेटेड सर्किट का इस्तेमाल किया गया था | जिसमें ट्रांजिस्टर को छोटे-छोटे कर सिलिकॉन चिप(Silicon chip) के अंदर डाला जाता था | जिसे Semi Conductor कहा जाता है, इससे यह फायदा हुआ कि कंप्यूटर की प्रोसेसिंग करने की क्षमता पहले से ज्यादा सुधर गई | पहली बार इस जनरेशन पर कंप्यूटर को ज्यादा यूजर फ्रेंडली बनाने के लिए मॉनिटर कीबोर्ड और ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया गया था | इस कंप्यूटर को पहली बार मार्केट में लांच किया गया था।

इसे भी जरुर पढ़े – Ecommerce क्या होता है ?

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी 1971 से 1985 ( Microprocessors )- 

चौथा जनरेशन की एक खासियत है कि इसमें माइक्रो प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया था | जिससे हजारों इंटीग्रेटेड सर्किट को एक ही सिलीकान चिप में add किया गया, इससे मशीन के आकार को कम करने में बहुत आसानी हुई और माइक्रो प्रोसेसर के इस्तेमाल से कंप्यूटर की एफिशिएंसी(Efficiency) और भी बढ़ गई | बहुत कम समय में बड़े-बड़े कैलकुलेशन कर पा रहा था |

कंप्यूटर की पांचवीं पीढ़ी 1985 से लेकर अब तक ( Artificial Intelligence )-

पाचवां जेनरेशन आज के दौर का है जहां की आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) ने अपना दबदबा कायम कर लिया है | अब नई नई टेक्नोलॉजी जैसे Speech Recognition, Parallel Processing, Quantum Calculation जैसे कई एडवांस(Advanced) तकनीक इस्तेमाल में आने लगे हैं | यह एक ऐसा जनरेशन है जहां की कंप्यूटर Artificial Intelligence होने के कारण स्वयं डिसीजन लेने की क्षमता रखते हैं इसके सभी काम धीरे-धीरे ऑटोमेटिक हो रहे हैं ।

Advertisement

इसे भी जरुर पढ़े – Cloud Computing क्या होता है ?

Invention of Computer in Hindi ( कंप्यूटर के जनक ) –

आधुनिक कंप्यूटर के जनक किसे कहा जाता है ? ऐसे में तो बहुत से लोगों ने कंप्यूटिंग फील्ड में अपना योगदान दिया है लेकिन इनमें से सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण योगदान चार्ल्स बैबेज (Charles Babage) का है | क्योंकि उन्होंने ही सबसे पहले 1837 में निकाला । उनके इस Computer में ALU बेसिक फ्लो कंट्रोल और इंटीग्रेटेड मेमोरी की कांसेप्ट लागू की गई थी | इसी मॉडल पर ही बेस आज के के कंप्यूटर को डिजाइन किया गया है, इसी के कारण इनका महत्वपूर्ण सबसे ज्यादा है और चार्ल्स बैबेज को ही कंप्यूटर के जनक के नाम में जाना जाता है |

इसे भी जरुर पढ़े – Computer में Firewall क्या होता है ?

Computer कैसे काम करता है ? How to work Computer in Hindi ?

किसी भी मॉडल में डिजिटल कंप्यूटर पर कई कंपोनेंट लगे होते हैं | लेकिन उनमें से कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण होते है जैसे इनपुट डिवाइस(Input Device), आउटपुट डिवाइस(Output Device), सीपीयू (CPU), मास स्टोरेज(Mass Storage) डिवाइस और मेमोरी(Memory)

Advertisement

जिनमें से इनपुट डिवाइस डाटा को accept करते हैं और प्रोसेसिंग डिवाइस एक सेट किए हुए डाटा को प्रोसेस करते हैं, और आउटपुट डिवाइस प्रोसेस एडिट किए हुए डाटा को दिखाते हैं, और स्टोरेज का काम उसी डाटा को स्टोर करना होता है |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here